BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

बीएस चंद्रशेखर भारतीय क्रिकेट के पूर्व अद्वितीय गेंदबाज थे, जिन्होंने अपने विशिष्ट गेंदबाजी के लिए बड़ा पहचान बनाया। उन्होंने अपने करियर के दौरान विभिन्न अद्वितीय प्रदर्शन किए और भारतीय क्रिकेट टीम के एक महत्वपूर्ण सदस्य के रूप में अपनी जगह बनाई।

जन्म और प्रारंभिक जीवन: बीएस चंद्रशेखर का जन्म 17 मई 1945 को बेंगलुरु, कर्नाटक में हुआ था। उन्होंने अपनी क्रिकेट की शुरुआत बीसीसी (Bangalore Cricketers) क्लब से की और फिर कर्नाटक राज्य के लिए खेलते हुए उनका प्रमुख ध्येय भारतीय क्रिकेट टीम में प्रवेश करना था।

क्रिकेट करियर: चंद्रशेखर ने अपनी प्रोफेशनल क्रिकेट करियर की शुरुआत 1963 में कर्नाटक टीम के सदस्य के रूप में की। उनकी अद्वितीय गेंदबाजी के कारण वे जल्द ही भारतीय क्रिकेट टीम के चयनकर्ताओं की दृष्टि में आ गए। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

उनका दौरा उनकी पहचान बन गया जब वे 1970 में इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टीम के सदस्य के रूप में चयन हुए। उन्होंने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत एक शानदार प्रदर्शन से की, जिसमें उन्होंने पांच विकेट लेने में सफलता प्राप्त की।

उनकी अद्वितीय गेंदबाजी: बीएस चंद्रशेखर की गेंदबाजी अनूठी और प्रतिष्ठित थी। उन्होंने अपनी डूम बॉल को बायोंड थे लिमिटेड ओवर्स (Bent Arm) के साथ गेंद फेंकी जिससे वे बॉल को अद्वितीय रूप से मुड़ सकते थे। इसके परिणामस्वरूप, वे बैटमेंट और स्लिप में बैटमेंट के बीच गेंद को जिद्दी और सुंदर ढंग से मुड़ सकते थे।

उनका प्रमुख उपलब्धि: चंद्रशेखर की खास उपलब्धि उनके 1977 में खेले गए तीन टेस्ट मैचों में इंग्लैंड के खिलाफ पांच विकेट हासिल करने में थी, जिसमें वे तीनों इंग्लैंड के खिलाफ किए गए इनिंग्स में पांच-पांच विकेट लेने में सफल रहे। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11
BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

पश्चिम इंडीज टूर: उनका प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण प्रदर्शन उनकी 1978-79 में पश्चिम इंडीज टूर पर था, जहाँ उन्होंने 6 टेस्ट मैचों में 35 विकेट हासिल किए और टूर के मैन ऑफ द मैच चुने गए।

संन्यास: बीएस चंद्रशेखर ने 1984 में अपने अंतिम टेस्ट मैच के बाद क्रिकेट से संन्यास ले लिया। उनका करियर 16 टेस्ट मैचों में 242 विकेटों के साथ और 67 वनडे अंतरराष्ट्रीय मैचों में 88 विकेटों के साथ समाप्त हुआ।

बाद की जिन्दगी: क्रिकेट के बाद, उन्होंने क्रिकेट के क्षेत्र में कई प्रमुख पदों में काम किया, जैसे कि कर्नाटक क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष और सीनियर नेशनल सेलेक्टर।

पुरस्कृत: उन्हें 2009 में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

यह थी क्रिकेटर बीएस चंद्रशेखर की संक्षिप्त जानकारी। उन्होंने अपनी अद्वितीय गेंदबाजी के साथ भारतीय क्रिकेट को एक महत्वपूर्ण योगदान दिया और उनकी क्रिकेट करियर की यादें हमें हमेशा याद रहेंगी।

बीएस चंद्रशेखर (B.S. Chandrasekhar) एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर हैं जिन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेला और भारतीय क्रिकेट को अपने विशिष्ट गेंदबाजी के साथ यादगार क्षणों से भर दिया। वे एक उच्चकोणीय गेंदबाज थे और उन्होंने अपने करियर में विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया।

मुख्य बिंदु: BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

  1. गेंदबाजी करियर: चंद्रशेखर को उनकी विशेष गेंदबाजी के लिए याद किया जाता है। उनकी गेंदबाजी में विवादशील डिलीवरी, जिन्हें “गौंडा” कहा जाता है, ने उन्हें मशहूरी दिलाई। वे एक विकेट-टू-विकेट गेंदबाज थे और उनकी विशेषता थी उनके स्पिन और गति में।
  2. टेस्ट क्रिकेट: चंद्रशेखर ने 1964 से 1979 तक भारतीय क्रिकेट टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट खेला। उन्होंने कुल मिलाकर 58 टेस्ट मैच खेले और 242 विकेट लिए।
  3. यादगार प्रस्तावनाएँ: चंद्रशेखर के करियर में कई यादगार प्रस्तावनाएँ थीं, जैसे कि 1970-71 में उनकी 6/38 की शानदार गेंदबाजी से भारत की पहली बारी ऑस्ट्रेलिया को हार दिलाने में मदद मिली।
  4. विश्व कप: उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के साथ 1975 और 1979 के विश्व कप में भी खेला।
  5. पदक: उन्हें 2002 में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया।
  6. रिटायरमेंट: उन्होंने अपने टेस्ट क्रिकेट के करियर के बाद खेलना छोड़ दिया और बाद में वे गेंदबाजी के कोच के रूप में भारतीय क्रिकेट में शामिल हुए।
  7. व्यक्तिगत जीवन: चंद्रशेखर का जन्म कर्नाटक के एक पंजाबी परिवार में हुआ था। उन्होंने क्रिकेट की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई और उन्हें गेंदबाजी की दुनिया में एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है।

बीएस चंद्रशेखर की गेंदबाजी ने उन्हें क्रिकेट की दुनिया में अनदेखा नहीं छोड़ा और उन्होंने भारतीय क्रिकेट को एक यादगार प्रस्तावना देने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11
BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

बीएस चंद्रशेखर, भारतीय क्रिकेट के पूर्व उपवन कप्तान और खरीदार गेंदबाज थे। उन्होंने भारतीय क्रिकेट की दुनिया में अपने खास गेंदबाजी के लिए पहचान बनाई। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

प्रारंभिक जीवन: बीएस चंद्रशेखर एक अच्छे गेंदबाज बनने के सपने के साथ छोटे से शहर से आए थे।

क्रिकेट करियर: बीएस चंद्रशेखर ने अपनी क्रिकेट करियर की शुरुआत कितापूर में की थी और वे वहां के क्रिकेट अकादमी से ताल्लुक रखते थे। उन्होंने 1964 में भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम में दिल्ली टेस्ट के खिलाफ अपने डेब्यू किया था।

उनकी गेंदबाजी: बीएस चंद्रशेखर की गेंदबाजी मुख्य रूप से उनके डूसरे कीमती गेंद (लेग स्पिन) की वजह से मशहूर थी। उनके गेंदों में अद्वितीय तेजी, बाउंसिंग और विपरीत मोहर की खासियतें थीं जिनसे वे बैटमैंट्स को समस्याएँ उत्पन्न करते थे।

कप्तानी: चंद्रशेखर ने कुछ समय तक भारतीय टेस्ट टीम के उपवन कप्तान के रूप में काम किया और उन्होंने टीम को कई महत्वपूर्ण सीरीज जीतने में मदद की।

खुदाई के बाद: बीएस चंद्रशेखर की खुदाई ने उनके स्वास्थ्य पर असर डाला और उन्हें कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ा।

बीएस चंद्रशेखर, भारतीय क्रिकेट के पूर्व खिलाड़ी थे, जिन्होंने 1970 और 1980 के दशक में भारतीय टीम के लिए खेला। वे एक उपग्रहण करने वाले बॉलर थे और उनका आविष्कारिक गेंद लॉकन टेस्ट के खिलाफ खेलने में कारगर सिद्ध हुआ था।

चंद्रशेखर का जन्म 17 जनवरी 1945 को मैसूर, कर्नाटक, भारत में हुआ था। उन्होंने अपना टेस्ट क्रिकेट डेब्यू 1964 में खेला था, लेकिन उनका असली प्रमुखता 1970 में हुआ था जब वे लॉकन टेस्ट में भारत के खिलाफ खेले और 6 विकेट लेकर धूल रहे।

उनका सफलता पूरे करियर में नहीं बन पाया, लेकिन उन्होंने कई महत्वपूर्ण मैचों में भाग लिया और अपनी महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनका आखिरी टेस्ट मैच 1979 में खेला गया था। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11
BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

बीएस चंद्रशेखर को उनके अनोखे गेंदबाजी के लिए याद किया जाता है, जिनमें उन्होंने अपने हाथों की उंगलियों की मदद से गेंद की गति में बदलाव किया।

उन्होंने अपने क्रिकेट करियर के दौरान भारतीय टीम के लिए 1970 से 1984 तक खेला। उन्होंने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय और द्विपक्षीय मैचों में भाग लिया और उनके खेलने का एक विशेष तरीका था।

चंद्रशेखर का स्पिन बॉलिंग था और उन्होंने उन्हीं की खासी शक्तिशाली बॉलिंग गतियों के लिए पहचान बनाई थी, जिनमें “गोली” बॉल, “डूसरा” और “तीसरा” शामिल थे। उनकी अनूठी डिलीवरी और गतियाँ बैट्समन को परेशान करने में मदद करती थीं।

चंद्रशेखर का करियर विशेष रूप से 1977-1978 में भारत के पश्चिम इंडीज के खिलाफ खेले गए टेस्ट सीरीज में महत्वपूर्ण था, जिसमें उन्होंने 6 मैचों में 35 विकेट लिए और वे भारत की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

चंद्रशेखर की क्रिकेट करियर के बाद, उन्होंने क्रिकेट के कोच के रूप में भी काम किया और युवा खिलाड़ियों को प्रेरित किया।

बीएस चंद्रशेखर, भारतीय क्रिकेट के पूर्व खिलाड़ी थे जिन्होंने विभिन्न प्रारूपों में भारतीय टीम के लिए खेला। वे एक लेग स्पिनर थे और अपने करियर में कई महत्वपूर्ण योगदान करने में सफल रहे।

उन्होंने अपना टेस्ट क्रिकेट डेब्यू 1964 में आयोजित हुए इंग्लैंड टूर के दौरान किया था। उनके करियर के दौरान, वे अपने विशेषता के लिए प्रसिद्ध थे – वे अपने बहुभुज गिनती और ड्रिफ्टिंग गेंदों के लिए जाने जाते थे।

उनका एक अद्वितीय प्रदर्शन 1977-78 में भारत के पाकिस्तान दौरे के दौरान हुआ था, जब उन्होंने टेस्ट मैचों में 35 विकेट लेकर सबसे अधिक विकेट लिए थे और भारत को उस सीजन में अपनी पहली बार विश्व कप जीतने में मदद की थी।

चंद्रशेखर का खेलने का समय 1984 तक चला और उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 16 साल के करियर में 242 विकेट लिए। उन्होंने वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में भी 3 मैचों में खेला।

बीएस चंद्रशेखर के खेलकूद करियर के बाद, उन्होंने क्रिकेट के क्षेत्र में कई प्रमुख भूमिकाओं का निर्वाह किया, जैसे कि कोच, चयनकर्ता और कमेंटेटर। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

उन्होंने अपने खेलकूद के दौरान और उसके बाद भारतीय क्रिकेट को महत्वपूर्ण योगदान दिया और उन्हें भारतीय क्रिकेट के विशेष व्यक्तित्व में से एक के रूप में याद किया जाता है।

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11
BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

बीएस चंद्रशेखर (Balwinder Singh Sandhu Chandrasekhar) भारतीय क्रिकेट के पूर्व क्रिकेटर और अब विशिष्ट रूप से क्रिकेट के कोच रहे हैं। वे भारतीय क्रिकेट के एक प्रमुख गेंदबाज रहे हैं और उन्होंने अपने प्रदर्शन के साथ-साथ अपने अनूठे गेंदबाजी स्टाइल के लिए भी पहचान बनाई। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

क्रिकेट में उनका प्रमुख योगदान उनकी गेंदबाजी में हुआ था, विशेष रूप से उनके उन्हें गरम पट्टी दिखाकर गेंदों का तेजी से मुड़ जाने वाला तरीका था, जिसका नाम ‘चंद्रशेखर ड्रिफ्ट’ था। उनकी यह गेंदबाजी विशेष रूप से उनके खिलाफ़ टेस्ट दरबार में अंग्रेजी बल्लेबाजों के खिलाफ़ कारगर सिद्ध हुई।

उन्होंने विशेष रूप से उनके प्रमुख प्रिय शहर मुंबई के खिलाफ़ अद्वितीय प्रदर्शन किए, जिनमें 1977 में विंडीज टेस्ट मैच में उन्होंने 6 विकेट लिए 38 रन देने में मदद की थी, जिससे भारत ने अपनी पहली विश्व चैम्पियनशिप जीती थी। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में कुल मिलाकर 58 मैच खेले और 242 विकेट लिए। उनका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास 1984 में हो गया था।

क्रिकेट के बाद, उन्होंने क्रिकेट के कोच के रूप में भी अपनी छाप छोड़ी है और उन्होंने युवा खिलाड़ियों की प्रशिक्षण में भी अपना योगदान दिया है। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

चंद्रशेखर क्रिकेट की दुनिया में अपनी विशेष गेंदबाजी के लिए प्रसिद्ध थे। उन्होंने अपने खिलाड़ी करियर में 1970 और 1980 के दशक में भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेलते हुए अपनी माहिरी का प्रदर्शन किया।

उनके विशेष गेंदबाजी तकनीक और विचारशीलता के लिए पहचानी जाती थी, जिसने उन्हें बड़े प्रशंसा और सम्मान का हकदार बनाया। उनके खिलाड़ी करियर में उन्होंने 8 वनडे अन्तरराष्ट्रीय मैच और 58 टेस्ट मैच खेले।

चंद्रशेखर का पहला टेस्ट मैच भारत और इंग्लैंड के बीच विस्तारित क्रिकेट सीरीज में 1969 में खेला गया था। उन्होंने अपने पहले टेस्ट मैच में 6 विकेट लेकर अद्वितीय प्रदर्शन किया और अपनी गेंदबाजी से सभी की नजरें खींच ली।

चंद्रशेखर का सबसे यादगार काम उनके 1977-78 की टेस्ट सीरीज में पाकिस्तान के खिलाफ था, जहाँ उन्होंने 6 मैचों में 35 विकेट लेकर अपने प्रतिष्ठान को मजबूत किया और भारत को एक प्रमुख जीत दिलाई।

उनके विशेष योगदानों के बावजूद, उन्होंने अपने करियर के दौरान कई घातक चोटों का सामना किया, जिसके कारण उन्हें क्रिकेट से संन्यास लेना पड़ा। उन्होंने 1979 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया लेकिन उनका योगदान भारतीय क्रिकेट के इतिहास में सदैव याद रहेगा। BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

उन्होंने अपने करियर में 58 टेस्ट मैच खेले और 245 विकेट लिए। चंद्रशेखर को विशेष रूप से उनके तेज और भयंकर गिनतीय गेंदबाजी के लिए याद किया जाता है, जिसमें उन्होंने एक आविष्कारात्मक गेंद करके बड़े खिलाड़ियों को बाउंड किया। उन्होंने अपने करियर में 9 बार मैच में 5 या उससे अधिक विकेट लिए और विकेट प्रतिप्रति में उनकी गिनती १६.९० रही।

चंद्रशेखर का यह अद्वितीय गेंदबाजी कौशल उन्हें क्रिकेट इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान दिलाता है। वे भारतीय क्रिकेट की एक महत्वपूर्ण चेहरे थे और उनकी यादें आज भी क्रिकेट प्रेमियों के दिलों में बसी हैं।

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

BS Chandrasekhar cricketer Complete information11
BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

बीएस चंद्रशेखर एक पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी थे जिन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के साथ खेला और विश्व क्रिकेट में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वे एक लेग स्पिनर थे और उन्होंने 1970 और 1980 के दशक में अपने व्यापक विकेता और गेंदबाजी कौशल से पहचान बनाई।

कुछ महत्वपूर्ण जानकारी: BS Chandrasekhar cricketer Complete information11

  1. क्रिकेट करियर: उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए पहली बार 1966 में खेलना शुरू किया था, लेकिन उनका असली प्रवृत्ति और प्रमुखता 1970 के दशक में दिखाई दी।
  2. विशेषताएँ: चंद्रशेखर के विशिष्ट आकर्षण केवल उनकी गेंदबाजी में ही नहीं थी, बल्कि उनके अनोखे गेंदबाजी स्टाइल के लिए भी। वे अपनी लेग स्पिन गेंदबाजी के लिए प्रसिद्ध थे और उनका गेंद चक्रव्यूह बल्कुल अनूठा था।
  3. महत्वपूर्ण योगदान: उन्होंने भारतीय क्रिकेट को कई महत्वपूर्ण जीतदार अवसरों पर मदद की, विशेषकर 1971-72 में भारत के पाकिस्तान दौरे में। उनकी प्रमुख सफलता उनके नाम से जुड़े वनडे क्रिकेट के खेल में थी, लेकिन वे टेस्ट क्रिकेट में भी महत्वपूर्ण खिलाड़ी रहे।
  4. पुरस्कृति और सम्मान: उन्हें 2009 में भारत सरकार द्वारा अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया, जिससे उनकी गेंदबाजी और क्रिकेट करियर की महत्वपूर्णता को मान्यता मिली।

Dilip Vengasarkar cricketer Complete information33

wikipedia