Harish Chowdhary of Biography01

हरीश चौधरी का जन्म 13 मई 1970 को मूलसिंह गोदारा के घर हुआ । हरीश चौधरी की माता का नाम मीरों देवी है। हरीश चौधरी की पत्नी का नाम हिमानी चौधरी है हरीश चौधरी के पुत्र व एक पुत्री हैं।
राजस्थान के 2018 के विधानसभा चुनाव में बायतु विधानसभा से करीब 13000 वोटों से जीत कर राजस्थान की विधानसभा पहुंचे हरीश चौधरी को अशोक गहलोत ने अपनी सरकार में राजस्व मंत्री बनाया।
राजस्थान के राजस्व मंत्री , बायतु से विधायक एवं पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश चौधरी पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के काफी नजदीकी नेता माने जाते हैं , हरीश चौधरी ने सचिन पायलट अशोक गहलोत के बंटने पर अशोक गहलोत के विधायकों की बाड़ी बंदी का नेतृत्व करने में अहम भूमिका निभाई थी। एवं हरीश चौधरी पूर्व में पंजाब प्रभारी रह चुके हैं एवं पंजाब के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। Harish Chowdhary of Biography01
हरीश चौधरी बाड़मेर जैसलमेर के पूर्व सांसद भी रह चुके हैं एवं राजस्थान के जय नारायण व्यास यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष पद के चुनाव में जोधपुर सांसद व केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को हराकर जीते थे।

हरीश चौधरी ने अपनी शिक्षा को दिल्ली विश्वविद्यालय से पूरा किया और उन्होंने कानून की पढ़ाई की। उन्होंने वकील के रूप में अपना पेशेवर करियर शुरू किया और बाद में राजनीति में भाग लिया।

हरीश चौधरी ने राजनीतिक करियर की शुरुआत सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में की और बाद में भाजपा में शामिल होकर राजनीति में अपना महत्वपूर्ण स्थान बनाया। उन्होंने भाजपा में विभिन्न पदों पर कार्य किया और पार्टी के महत्वपूर्ण नेताओं में से एक बने। Harish Chowdhary of Biography01

Harish Chowdhary of Biography01

Harish Chowdhary of Biography01
Harish Chowdhary of Biography01

हरीश चौधरी ने कई बार संसदीय चुनावों में भाग लिया और सफलता प्राप्त की। उन्होंने लोकसभा और राज्यसभा दोनों में सदस्यता ग्रहण की और विभिन्न सांसदिक समितियों में भी योगदान दिया।

हरिश चौधरी ने राजनीति में अपना करियर 1967 में लोकसभा चुनावों में उम्मीदवार बनकर शुरू किया। उन्होंने सफलता प्राप्त की और तब से उन्होंने बीते कई दशकों तक भारतीय राजनीति में अहम भूमिका निभाई।

मुलायम सिंह यादव ने 1992 में भारतीय समाजवादी पार्टी (यादव) की स्थापना की, जिसे सपना (समाजवादी पार्टी) के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने यह पार्टी समाजवादी पार्टी से अलग करके बनाई थी।

हरिश चौधरी का नेतृत्व समाजवादी पार्टी के बनने के बाद भी बना रहा, और उन्होंने उत्तर प्रदेश में राजनीतिक और सामाजिक मामलों पर गहरा प्रभाव डाला। उन्होंने अपने पैरवी अनेक विवादों का सामना किया, लेकिन उनके प्रशासनिक और नेतृत्वीय कौशल की वजह से वे राजनीति में महत्वपूर्ण स्थान बनाए रख सके।

राजनीतिक करियर: मुलायम सिंह यादव ने राजनीतिक करियर की शुरुआत सोशलिस्ट पार्टी के सदस्य के रूप में की। बाद में, उन्होंने 1992 में समाजवादी पार्टी की स्थापना की और पार्टी के प्रमुख बने।

Harish Chowdhary of Biography01

Harish Chowdhary of Biography01
Harish Chowdhary of Biography01

राजनीतिक पद: Harish Chowdhary of Biography01

  1. सदस्य: मुलायम सिंह यादव ने सोशलिस्ट पार्टी के सदस्य के रूप में राजनीति में कदम रखा था।
  2. सदस्य, संघ: उन्होंने समाजवादी पार्टी की स्थापना की और पार्टी के संघ के प्रमुख बने।
  3. लोकसभा सदस्य: मुलायम सिंह यादव ने कई बार लोकसभा में सदस्य के रूप में भी सेवा की।
  4. उत्तर प्रदेश सभा के सदस्य: उन्होंने उत्तर प्रदेश विधान सभा में भी कई बार सेवा की और कई बार सीपीएम बने।

मुख्यमंत्री के रूप में: मुलायम सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर कई बार सेवा की। उन्होंने 1989 से 1991 तक, फिर 1993 से 1995 तक और फिर 2003 से 2007 तक मुख्यमंत्री पद की कदम रखी। उनकी सरकारें समाजवादी विकास को प्रमुखता देने का प्रयास की।

सामाजिक कार्य: मुलायम सिंह यादव ने सामाजिक क्षेत्र में भी अपनी सेवाएं की हैं। उन्होंने बच्चों की शिक्षा, महिला सशक्तिकरण, और गरीबों के लिए योजनाएं चलाई हैं।

नियुक्तियाँ: मुलायम सिंह यादव को कई बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनाया गया था।

विवाद: मुलायम सिंह यादव के पास विवादों और उनके प्रशासन में होने वाली आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है।

चौधरी जी का राजनीतिक सफर 1991 में जयपुर नगर निगम के सदस्य बनने से शुरू हुआ था। इसके बाद, उन्होंने अनेक पदों पर कार्य किया, जैसे कि विधानसभा सदस्य, राज्य मंत्री, गवर्नर आदि।

उन्होंने 1977 में जनता दल से चुनाव लड़कर लोकसभा में सदस्य बनने का मौका प्राप्त किया और इसके बाद 1980 में विपक्षी दल के रूप में संघर्ष किया।

उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में विकास की दिशा में कई महत्वपूर्ण पहलुओं का समर्थन किया। Harish Chowdhary of Biography01

Harish Chowdhary of Biography01

Harish Chowdhary of Biography01
Harish Chowdhary of Biography01

हरीश चौधरी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के स्थानीय विद्यालयों से प्राप्त की और फिर दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद, उन्होंने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) खडगपुर से और फिर आइआइएम कालकत्ता से प्रबंधन में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। Harish Chowdhary of Biography01

चौधरी ने अपना प्रोफेशनल करियर जीटीईआई (हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड) में शुरू किया, जहाँ उन्होंने कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया। उन्होंने भारतीय विमानन उद्योग के कई पहलुओं में योगदान किया और इसके साथ ही अपने प्रबंधन कौशल को भी सुधारा। Harish Chowdhary of Biography01

2016 में, हरीश चौधरी को ओइल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन लिमिटेड (ओएनजीसी) के निदेशक मण्डल के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया। उन्होंने ओएनजीसी को नये दिशानिर्देश देने और उसे विभिन्न क्षेत्रों में विकसित करने का काम किया। उनके प्रबंधन कौशल और दृढ़ संवादनशीलता के कारण, उन्होंने ओएनजीसी को औद्योगिक और विपणन क्षेत्र में अग्रणी भूमिका में उत्तराधिकारी कंपनी बनाया।

हरीश चौधरी का कौशल और नेतृत्व व्यापारिक मामलों में प्रमुख होने के साथ-साथ उन्होंने सामाजिक और पर्यावरणिक मुद्दों पर भी ध्यान दिया। उन्होंने उद्योग में नये और सतत ऊर्जा स्रोतों की खोज और विकास को प्रोत्साहित किया। Harish Chowdhary of Biography01

यह थी हरीश चौधरी की एक संक्षिप्त जीवनी। उनका प्रयास और योगदान भारतीय उद्योग और समाज के विकास में महत्वपूर्ण रहा है।

Kapil Dev cricketer complete information01

wikipedia